भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अन्तर के तार बजे / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अन्तर के तार बजे
बन्धु ! बार-बार बजे
किसने छू दिया मुझे
प्रातः के चार बजे

सिहर उठा सारा तन
फूल-फूल हुआ बदन
नींद गई, खुले नयन
         तन-मन में एक नदी
         उतर गई धीरे से
         लहरों की थापों से
         काँपते कगार बजे ।

दत्त-चित्त नील व्योम
उमस, घुटन, हुई होम
पुलकित है रोम-रोम
         प्यार-सी एक छुअन
         तैर गई नस-नस में
         प्राण में धमनियों में,
         अनदिखा सितार बजे ।