भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अपनासँ घेराएल एकाकी ! / धीरेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनासँ घेराएल एकाकी !
अएला केओ ओ ई बनिकें
अएला केओ ई ओ बनिकें,
जीवन-क्रममे की कहु संगी,
अएला बहुतो एहिना छलिकें

जीवन संगिनि हम छी अहाँक,
हम बेटा तँ हम छी बेटी,
आएल पुनि फेरो एहनो क्षण,
सबहक नकाब उनटल ओहिना।

ओहो ! ई तँ थिक उएह मुखड़ा,
हमर मानस जनु सिहरि गेल,
केओ अप्पन अछि कहाँ हमर,
सभकेर सभ कि थिक ई अरे ! आन।

झन-झनन-झनन, खन-खनन-खनन
सुनबाकेर खाली प्रत्याशी।

सभ भ्रान्ति कि अबह तों झपदय,
ऋषि वाल्मीकिकेर हे करूणे !
चिर दिनकेर हम तँ छी विरही,
तों ही मदिरा, तों ही शाकी।

अस बुझि लेल, सभ झेलि लेल,
किछुओ ने आब रहले बाँकी ।
अपनासँ घेराएल एकाकी !