भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अपना ही आकाश बुनूं मैं / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज सुर्ख बताने वालो
सूरजमुखी दिखाने वालो
अंधियारे बीजा करते हैं
गीली माटी में पीड़ाएं
पोर-पोर
फटती देखूं मैं
केवल इतना सा उजियारा
रहने दो मेरी आंखों में
सूरज सुर्ख बताने वालो
सूरजमुखी दिखाने वालो
अर्थ नहीं होता है कोई
अथ से ही टूटी भाशा का
तार-तार
कर सकूं मौन को
केवल इतना शोर सुबह का
भरने दो मुझको सांसों में
स्वर की हदें बांधने वालो
पहरेदार बिठाने वालो
सूरज सुर्ख.....
गलियारों से चौराहों तक
सफ़र नहीं होता है कोई
अपना ही
आकाश बुनूं मैं
केवल इतनी सी तलाश ही
भरने दो मुझको पांखों में
मेरी दिशा बांधने वालो
दूरी मुझे बताने वालो
सूरज सुर्ख बताने वालो
सूरजमुखी दिखाने वालो