भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपनी औक़ात समझ ख़ुद को पयम्बर न बना / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनी औक़ात समझ ख़ुद को पयम्बर न बना
देख बच्चों की तरह रेत पे अक्षर न बना

मुझसे मिलना है तो मिल आके फ़क़ीरों की तरह
मुझसे मिलने के लिए ख़ुद् को सिकन्दर न बना

दस्तकें देता रहेगा कोई आतंक सदा
वारदातों की गली में तू कोई घर न बना

प्यार के गीत का ये शब्द बहुत सच्चा है
रूह से छू ले इसे जिस्म का मन्तर न बना.