भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपनी गर्म उँगलियों से / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज




अपनी गर्म उँगलियों से
तुम्हारी सर्द हथेली पर
चिरयौवना आस से
नवजीवन का प्यार लिखूँगी ।

कलम की अठखेलियों से
तुम्हारी कठिन पहेली पर
अनुभूति विश्वास से'
गुँथा सर्वाधिकार लिखूँगी ।

प्रेम से सनी कलियों में
खाली दीवार अकेली पर
दिग्दर्शन उजास से
प्रेमांकन हर-बार लिखूँगी ।

बेघर हूँ माना, गलियों में,
लेकिन खुशियों की ठेली पर
नव कालखंड प्रवास से
रंगायन संचार लिखूँगी ।

हो ,न हो अपना, छलियों में
लेकिन गुड़ की भेली पर
रचनात्मक उपवास से
अपनापन आभार लिखूँगी ।

(31-12-2018 )