भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपनी ज़मीन का / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुमको नाहक डर लगता है
मुझको सारा देश
नुमाइशघर लगता है
तुमको नाहक डर लगता है

क्या है डर की बात बताओ
महतो, गोपी को समझाओ
यह समझाना
और बुझाना
मुझको एक सफ़र लगता है
तुमको नाहक डर लगता है

डर के आगे आग जलाओ
कद्दावर शब्दों को लाओ
फिर देखो—
अपनी ज़मीन का
कितना बड़ा जिगर लगता है
तुमको नाहक डर लगता है