भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपनी तृप्ति बांध ली तुमने / बलबीर सिंह 'रंग'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनी तृप्ति बांध ली तुमने अब तो मेरी प्यास न बांधो।

जीवन में जो स्वप्न संजोए
वे सब बीत गए बातों में,
मेरा आधा-दीप बुझ गया
मेरे ही झंझावातों में।
संयम के अंतिम प्रहरों में मेरा प्रथम प्रयास न बाँधो।
अपनी तृप्ति बांध ली तुमने अब तो मेरी प्यास न बांधो।

मैं कटु सत्यों के मरघट में
मादक स्वप्न जला आया हूँ,
मैं अपनी मन्जिल को छूकर
कितनी बार चला आया हूँ।
ममता के जर्जर अंचल में अब मेरा सन्यास न बांधो।
अपनी तृप्ति बांध ली तुमने अब तो मेरी प्यास न बांधो।

भिन्न दिशाओं में दोनों की
विवश बह रही जीवन धारा,
मेरे आँसू सूख चुके हैं
भीग चुका है हृदय तुम्हारा।
मेरी आँखों के डोरों में अपना भृकुटि विलास न बाँधो
अपनी तृप्ति बांध ली तुमने अब तो मेरी प्यास न बांधो।