भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपनी बेटी के लिए / स्तेफान स्पेन्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टहल रहे हम साथ आज;
मैं, मेरी बिटिया
कितनी उजली पकड़ हाथ की उसके पूरे
मेरी इस उँगली पर ।

आजीवन आलोक-वलय यह
इस हड्डी के गिर्द करूँगा अनुभव मैं, जब
हो जाएगी बड़ी — आज से दूर,

कि जैसे
दूर देखती आँखें उस की अभी,
आज ही

अँग्रेज़ी से अनुवाद : रमेशचन्द्र शाह