भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपनी मंज़िल से बे ख़बर आंसू / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनी मंज़िल से बे ख़बर आंसू
छोड़ कर जा रहे हैं घर आंसू

तेरी उल्फ़त के नाम कर डाले
हमने अपने तमाम तर आंसू

हम भी मक़तल की सम्त की कूच करें
रास्ता छोड़ दें अगर आंसू

मेरी सच्चाई की ज़मानत है
मेरा हर लफ्ज़ मेरा हर आंसू

हाल दिल का बयान कर देंगे
राज़दारी से बे ख़बर आंसू