भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपनी रहमत की इक नज़र दे दे / अनीता सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनी रहमत की इक नज़र दे दे
मेरी आवाज़ में असर दे दे।

आज की रात मुझपे भारी है
साथ मेरा तू इक पहर दे दे।

कल हमारा सितारा चमकेगा
आसमां को कोई ख़बर दे दे।

चांद-तारों की किसको ख़्वाहिश है
इक नशेमन ज़मीन पर दे दे।

जिसके दम पर मैं ज़िन्दगी जी लूं
इक मुलाक़ात मुख़्तसर दे दे।