भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने इन गीतों की बानी / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ अपनी है
कुछ जगबीती
अपने इन गीतों की बानी
 
बाँच रहे ये जग की पोथी
जैसे कबिरा ने थी बाँची
माया ठगिनी को भी परखा
कुछ वह झूठी - कुछ है साँची
 
बड़े जतन से
हमने रक्खी
पुरखों की छोड़ी सहिदानी
 
इन गीतों में सहज सहेजा
हमने चंदा-सूरज को भी
बच्चों की आँखों में बसता
साधा है उस अचरज को भी
 
इनमें कनखी का
जादू है
कहीं आँख से बहता पानी
 
किस्सा कहते ये महलों का
खबरें देते हाट-लाट की
साखी देते हैं ये घर की
सगुनापाखी- नदीघाट की
 
मस्जिद की अज़ान
मंदिर की धुन भी
हमने इनसे ही है जानी