भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने घर में ही अजनबी की तरह / सूर्यभानु गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने घर में ही अजनबी की तरह
मैं सुराही में इक नदी की तरह
 
एक ग्वाले तलक गया कर्फ़्यू
ले के सड़कों को बन्सरी की तरह
 
किससे हारा मैं, ये मेरे अन्दर
कौन रहता है ब्रूस ली की तरह
 
उसकी सोचों में मैं उतरता हूँ
चाँद पर पहले आदमी की तरह
 
अपनी तनहाइयों में रखता है
मुझको इक शख़्स डायरी की तरह
 
मैंने उसको छुपा के रक्खा है
ब्लैक आउट में रोशनी की तरह
 
टूटे बुत रात भर जगाते हैं
सुख परीशां है गज़नवी की तरह
 
बर्फ़ गिरती है मेरे चेहरे पर
उसकी यादें हैं जनवरी की तरह
 
वक़्त-सा है अनन्त इक चेहरा
और मैं रेत की घड़ी की तरह