भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने ढंग से कोई जिया नहीं / शकुन्त माथुर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने ढंग से
कोई जिया नहीं
मनमाने ढंग से
दुख-सुख पिया नहीं

हवा चली
आग बढ़ी
गिरी अकस्मात बिजलियाँ
मनमाने ढंग से
झरना बहा नहीं

कहीं उगे गेहूँ धान
कहीं रहा रिक्त थान
समुद्र भी गरिमा भरा रहा न शान्त
उठती लहरों से
अन्तर का
द्वन्द्व
सुलग रहा ढका नहीं

कहीं रिस-रिस बूंदें बनी ताल
कहीं सूख गईं झीलें तप-तप कर
कहीं प्रतीक्षा सूनी आँखों में गरमाई
कहीं बढ़ती बेल फूलभरी कुम्हलाई

झर-झर पत्ती-सा
ज़िन्दगी को जी लिया
किसी ने किसी तरह
क्रम कोई भी एक बंद शुरू हुआ नहीं
अपने ढंग से कोई जिया नहीं।