भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने तप्त करों में ले कर / अज्ञेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 अपने तप्त करों में ले कर तेरे दोनों हाथ-
मैं सोचा करती हूँ जाने कहाँ-कहाँ की बात!
तेरा तरल-मुकुर क्यों निष्प्रभ शिथिल पड़ा रहता है
जब मेरे स्तर-स्तर से ज्वाला का झरना बहता है?

क्यों, जब मैं ज्वाला में बत्ती-सी बढ़ती हूँ आगे-
अग्निशिखा-से तुम ऊपर ही ऊपर जाते भागे?
मैं सोचा करती हूँ जाने कहाँ-कहाँ की बात-
अपने तप्त करों में ले कर तेरे दोनों हाथ!

1935