भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने बचने के लिए कोई सहारा ढूँढ़ लूँ / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने बचने के लिए कोई सहारा ढूँढ़ लूँ ।
झूट की बन्दूक़ है, मज़बूत काँधा ढूँढ़ लूँ ।

तुम अगर हर गाम पर उँगली पकड़ना छोड़ दो,
तब ये मुम्किन है कि मैं भी अपना रस्ता ढूँढ़ लूँ ।

मैं भी उसके ग़म में हो जाऊँ बराबर का शरीक,
मैं भी रोने का कोई ऐसा तरीक़ा ढूँढ़ लूँ ।

फिर न खटकेगी मुझे ये बेरुख़ी अहबाब की,
एक कोई अपने जैसा पीने वाला ढूँढ़ लूँ ।

मैं जला दूँगा लहू दिल का मगर पहले ’नदीम’,
रौशनी देनी है जिसको वो अन्धेरा ढूँढ़ लूँ ।