भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने विश्वास को आप तोड़ा न कर / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने विश्वास को आप तोड़ा न कर
जो पराए हैम ख़त उनको खोला न कर

आँसुओं की किताबें खुली छोड़ कर
याद की धूप के पीछे दौड़ा न कर

मौत के बाद ही एक है ज़िन्दगी
मौत के नाम पर इतना सोचा न कर

तितलियाँ यायावर हो न जाएँ कहीं
तू बगीचे के फूलों को तोड़ा न कर

पार करना है दरिया तो चप्पू उठा
काग़ज़ी कश्तियों पे भरोसा न कर

सारी बस्ती ये नाबीना लोगों की है
इनके रस्ते में पत्थर तू रक्खा न कर