भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने सूखे होंठों के पास लाता हूँ हरापन / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने सूखे होंठों के पास लाता हूँ हरापन
और हरी-हरी पत्तियों की खाता हूँ कसम
महसूस करता हूँ उस माँ-धरती का सौंधापन
जिसने दिया हेमपुष्पी और बलूत को जनम

देखो, कैसे बात मैं अपनी जड़ों की मानकर
हो रहा हूँ ताकतवर और बेहद मज़बूत
देखो, कितना अच्छा है, माँ-धरती का ध्यान कर
मृत्युदेव यमराज के साथ खेल रहा हूँ द्यूत

वे सब मेंढक हैं जैसे, पारे की चमकीली गोलियाँ
टर्र-टर्र टर्रा रहे भयानक, बोलें अपनी बोलियाँ
छड़ी उनकी लगती है मुझे, हरे पेड़ की डगाल
और भाप-सा उड़ जाता है, मन का सब मलाल

30 अप्रैल 1937, वरोनिझ़