भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने से / नरेन्द्र शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तोड़ फेंक पतवार रे!
अपना नहीं कहीं कोई, अपनी जीवन-मझधार रे!

लहरें तेरी बाँह गहेंगीं, सब दिन तेरे संग रहेंगीं,
मिला बोल से बोल बहे तू, ये लहरें जिस ओर बहेंगीं;
हाथ उठा कर साथ, गगन के स्वामी को ललकार रे!

निगल गई पच्छिम में रवि को नागिन-सी यह साथिन तेरी,
उगल रहीं फुफकार मार कर भर भादों की रैन अँधेरी;
छिटक गए हैं झाग, दीखते जो तारे दो चार रे!

देखा तट तटनी का मिलना; रोना क्या जो साथ छूटता?
देख कगारों का भी गिरना; रोना क्या जो हृदय टूटता?
सह प्रहार, पर गिर कगार-सा मत कर हाहाकार रे!

उसका सोच फ़िकर करना क्या, अपने बस की बात नहीं जो!
एक आस ही पास रही, ये ले जाएँगी बहा कहीं तो!
बहने में भी सुविधा होगी, नहीं कहीं आधार रे!

तुझको कहाँ पड़ी पल भर कल; चाहा बहुत बुद्धि ने छलना!
तू अपना भी भला न कर सका; व्यर्थ हुआ बच बच कर चलना!
अब तो प्रलय-पूर में चाहे जितने पाँव पसार रे!
तोड़ फेंक पतवार रे!