भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने ही इर्द-गिर्द / देवेन्द्र कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने ही इर्द-गिर्द
हर कहीं नहीं ।

नीचे से ऊपर तक
दूब गई काँप
झाड़-पूँछ पर खड़ा हुआ
काला-साँप
षटमचिया
बियफइया
करके भी कुछ न किया
रह गए
वहीं के
वहीं ।

बाँसों के काग़ज़ पर
         रोज़ का हिसाब
छूट गई बिस्तर पर
         धूप की क़िताब
साखू का पेड़ खड़ा
         पड़ा पेसोपेश में
भूलकर चला आया
         नागों के देश में
अबसे गर लिखना, तो
         पता हो सही ।