भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने होने की अर्ज़ानी ख़त्म हुई / नज़र जावेद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने होने की अर्ज़ानी ख़त्म हुई
मुश्किल से ये तन आसानी ख़त्म हुई

तुझ को क्या मालूम हमारी बीनाई
कैसे हो कर पानी पानी ख़त्म हुई

बहता है चुप-चाप बिछड़ कर चोटी से
दरिया की पुर-शोर रवानी ख़त्म हुई

मिट्टी की आवाज़ सुनी जब मिट्टी ने
साँसों की सब खींचा-तानी ख़त्म हुई

दिन पर सारे मौसम बीत गए ‘जावेद’
यानी ख़ुश्बू-दार कहानी ख़त्म हुई