भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अपन पान आ मखान / नरेश कुमार विकल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ने मजा रूसे मे छै ने अमेरिके मे छै
मजा छै ने ई चीन आ जापान मे
जे मजा छै अपन पान आ मखान मे।

भोर सींथक सिंगार सांझ महफा-कहार
स्वर्ग एखनो छै गाछीक मचाने मे
ई मजा छै ने अफरिका-ईरान मे।

कोशी-कमलाक कात खोंटथि करमीक पात
जे मजा छै घोघ तऽर कें मुस्कान मे
ओ मजा छै ने सुरूज आ चान मे।

देखू मंडन आ चन्दा-अयाची
पाग कोकटीक आर धोती साँची
बहुतो विद्यापति बैसल बथान मे।

भोर भैरव मनाएब सांझ शिवकें सजाएब
ओना भक्ति छै सभ भगवान मे
बसल मिथिला छै सीताक परान मे।