भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपन महलिया से दादीजी निकललि / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अपन महलिया सेॅ दादीजी निकललि।
डोलाबइत[1] हे कँगना धीरे धीरे।
बजाबइत[2] हे बिछिआ[3] धीरे धीरे॥1॥
बजाबहु हे बिछिआ धीरे धीरे।
डोलाबहु हे कँगना धीरे धीरे।
चुमाबहु हे ललना धीरे धीरे॥2॥
आपन महलिया सेॅ अम्माँजी निकललि।
बजाबहु हे बिछिआ धीरे धीरे।
डोलाबहु हे कँगना धीरे धीरे।
चुमाबहु हे ललना धीरे धीरे॥3॥

शब्दार्थ
  1. डुलाते हुए
  2. बजाते हुए
  3. पैर का एक आभूषण