भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपशकुनको दोबाटोमा / सन्तोष थेबे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सतीले थुकेर हो
या जङ्गेले मुतेर
यहाँ खैँ के हुन्छ, हुन्छ
कसैले भन्न सक्दैन
आलु रोप्यो
बैगुन फल्छ
बैगुन रोप्यो
आलु फल्छ
चाखेर हेर्दा
पिँडालुजस्तो कोक्याउँछ ।