भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपशकुनी तारे ने / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धोने में बीत गया हर पल-छिन
            धुले नहीं पिछले दिन ।

एक त्रिया-हठ ऐसा बिखरा है
           बँध-बँध कर खुलता है
जब कोई दूर का, पड़ोसी का
              सम्वेदन छुलता है

आँगन को सागर करने की ज़िद
            करती है पनिहारिन ।

ऐसा भूचाल उठा है भीतर
            ढुलक रहे हैं पर्वत
रोक नहीं पातीं चन्दन बाहें
            जाने क्यों दूरागत

अपशकुनी तारे ने फेंक दिए
            मुट्ठी-भर कर दुर्दिन ।