भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / अंगुलिमाल 2 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रश्न एक -
क्या है दुख
अंगुलिमाल सोच रहा

यही एक जिज्ञासा
शेष रही
आँखों से उसके
जलधार बही

हो गया
निरर्थक सब
किसने क्या उसे कहा

शास्ता से
बोध मिला एक नया
'धम्म' एक है केवल
जीवदया

भीतर जो
था उसके
निर्मम एकांतों का किला ढहा

पाप-पुण्य
शब्द हुए अर्थहीन
अहंकार मिटा सभी
हुआ दीन

एक महासागर है
करुणा का
साँसों में वही बहा