भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / आनंद 1 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

'बड़े भाई बुद्ध हुए
            धन्य हम'
सोच रहे बैठे आनन्द

'उनके सँग
जीवन है कितना आसान हुआ
साँसों की वीणा पर
सधा-हुआ गान हुआ

'अग्रज हैं महाकमल
            वीतराग
हम सब हैं उसके मकरन्द

'चक्रवर्ति राजा भी
उनके अनुयायी हैं
ऋषि-मुनि-अर्हन्त सभी
उनकी परछाईं हैं

'भाई हैं महागान
           सृष्टि का
हम सब हैं उसके पद-छ्न्द

'किन्तु यह अलौकिकता
होने को शेष अब
देह छोड़ जायेंगे
अग्रज यह जाने कब
 
'चले गये पहले ही
         सारिपुत्र
राहुल-मोग्गलायन औ' नन्द'
</poem