भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / नन्द 1 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

और...
नन्द सहज नहीं हो पाये

उनका सौन्दर्यबोध
उनके आड़े आया
सब कुछ हो सुन्दर ही -
यह हठ था मनभाया

साँसों में
सात रंग सूरज के थे छाये

वंशी औ' वीणा के
सुर उन्हें लुभाते थे
दृश्य नदी-झरनों के
याद उन्हें आते थे

माया से
फागुनी हवाओं के वे थे बौराये

देह-गंध और छुवन
लगती थी उन्हें सगी
पिंजरे में सोने के
गाती थी गीत खगी

धरती के
सारे ही बंधन थे नन्द को सुहाये