भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / नन्द 4 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नन्द करें भी तो क्या
         सोच रहे वे यही विकल से

तीन दिनों से
कपिलवस्तु हैं भाई आये
उनका नया रूप अद्भुत है
सब हैं बौराये

कहती है सुन्दरी -
उन्होंने मोहा सबको ही है छल से

मिलने नहीं गये वे उनसे
हुए भ्रमित हैं
होना है अभिषेक आज ही
नन्द थकित हैं

क्या साधू का योग
बड़ा है सिंहासन के विक्रम-बल से

और सुन्दरी ,,,
उसकी सांसें जीवनधर हैं
भाभी यशोधरा अब भी
कितनी सुन्दर हैं

प्रश्न मथ रहे
निकल न पाता काँटा उनके मर्मस्थल से