भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / महाप्रजापति गौतमी 1 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

और...
महाप्रजापति गौतमी
            यादों में खोईं

बच्ची थीं
भगिनी का दाय मिला
तुवा हुईं-
उनके भी अंगों में फूल खिला

चले गये गौतम थे
तबसे वे बार-बार रोईं

प्रश्न एक यही उन्हें
था मथता
खोटी थी क्या उनकी
ममता की कोमलता

उस दिन से
पूरी रात कभी नहीं सोईं

पतझर ही पतझर थे
सभी ओर
धुएँ और कोहरे ही
छाये घनघोर

उनने थीं साँसों में
काँटों की अमरबेल बोईं