भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / महाप्रजापति गौतमी 2 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गौतम थे हुए बुद्ध
आये थे कपिलवस्तु
              सबका दुख हरने

नन्द ने प्रव्रज्या ली
राहुल ने
और सभी कुँवरों ने
त्यागे सब राग-मोह
छत्र-मुकुट-चँवरों ने

बेकल थीं गौतमी
मन था कि
पाता था नहीं धीर धरने

और तभी गूँजे थे
कानों में बुद्ध-वचन
'जलता है सभी ओर
साँसों का बीहड़ वन

'शमन करो
ताप सभी
बहने दो आँखों से करुणा के झरने

गौतमी हुईं शिष्या
दुक्ख-शोक-भय बीता
भरा अचल नेह-भाव मन में
जो था रीता

मथा नहीं
उनको फिर
आकुल इच्छाओं के भँवर ने