भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / राहुल 1 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अचरज से भरे हुए
अन्तहीन स्वप्न हुए हैं राहुल

सात बरस का बालक
सागर गम्भीर हुआ
मन जैसे नभगामी
उड़नातुर कीर हुआ

जन्मों का बिसराया
उन्हें मिला शास्ता कुल

राग-द्वेष दोनों से
पल भर में परे हुए
कंधे से उतर गये
इच्छा के सभी जुए

पार सभी घाटों के
दिखा उन्हें ऋत का पुल

आरती हुईं साँसें
फूलों-सी देह हुई
लगा उन्हें ऋतुएँ सब
जैसे हों नेह-छुई

बूँद-बूँद
नेह-नदी आँख में रही है