भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / शुद्धोदन 1 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राजा शुद्धोदन की
        वाणी है मूक हुई

क्या बोलें -
एक-एककर सारे अहंकार
टूट गये
लगता था
जैसे कुलदेवता
उनसे थे रूठ गये

पता नहीं
कहाँ-कभी उनसे थी चूक हुई

जन्मे सिद्धार्थ थे
चक्रवर्ति बनने को - भिक्षु हुए
निकल आये
शाक्य वंश की उर्वर भूमि में
काँटों के थे अँखुए

साँस कभी
सपना थी - आज वही हूक हुई

आये बुद्ध कपिलवस्तु
रिक्त हुए राजमुकुट-सिंहासन
खाली हैं पड़े हुए
राजमहल-घाट-गाँव-घर-आँगन

वंश चले
राजा की आस टूक-टूक हुई