भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / शुद्धोदन 2 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाहर है अँधियारा - भीतर भी राजा के

क्या था कल - क्या है अब
सोच रहे शुद्धोदन
भिक्षु हुए सभी कुँवर
धीर नहीं धरता मन

सूख गये सभी ताल-पोखर भी राजा के

सात वर्ष पिछले थे
शनि की साढ़े-साती
देख दशा महलों की
फटती उनकी छाती

फेरे मुँह खड़े सभी चाकर भी राजा के

कौन उन्हें साजे अब
ढह रहे कँगूरे हैं
महलों में -आसपास
जगह-जगह घूरे हैं

झूठे हो गये सभी आखर भी राजा के