भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / शुद्धोदन 3 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राजा हैं
हाथों में छत्र-मुकुट लिये खड़े

एक-एककर
सारे कुँवर उन्हें
केंचुल-सा छोड़ गये
जात-नात-गोत
सभी के बंधन तोड़ गये

बरगद थे वे -
उनके हरे सभी पात झड़े

बूढ़े वे -
छत्र-मुकुट-सिंहासन
उनको हैं भार हुए
बिरवे जो रोप थे
सभी छार-छार हुए

आसपास
सारे आकाशकुसुम झरे पड़े

यादें ही हैं पिछली
आगे कुछ जीने को नहीं बचा
घिसट रहे -
पाँवों के नीचे है रेत तचा
                                                        
सोच रहे
कब तक यों चलना है
             रेती में गड़े-गड़े