भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अबके आना / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
देश-रक्षा में
सर्द- शृंगार मेरा
मन तपता ।
2
अबके आना
प्रिय आलिंगन में
भूल न जाना ।
3
गर्म चाय की
चुस्कियों जैसी मीठी-
स्मृति तुम्हारी ।
4
सर्द विरह,
सैनिक-प्रियतम
सर्दी की धूप ।
5
नभ में पिया
बदली रुई- सी है
उड़ आऊँ मैं ।
6
बर्फीली भोर
प्रिय-उष्णता–रश्मि
कली-सी खिले।
7
अलाव–सा है,
सर्द रात पीड़ा में
स्पर्श तुम्हारा ।
8
बादल-यादें
आलिंगन -सी छाई
मन के नभ ।
9
पथराई आँखें
सैनिक-प्रिया थकी
बाट निहारे ।
10
पहाड़ी नदी
संघर्ष पत्थरों से
फिर भी बहे ।