भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अबोध का बोध पाठ / लावण्या शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हैं छोटे छोटे हाथ मेरे,

छोटे छोटे पाँव।

नन्हीं नन्हीं आँखे मेरी

नन्हें नन्हें कान।


फिर भी हरदम चलता हूँ

हाथों से करता काम।

रोज देखता सुंदर सपना

सुनता सुंदर गान।


अब हमारी सुनो प्रार्थना

तुम भी बच्चे बन जाओ।

छोड़ो झगड़े और लड़ाई

अच्छे बच्चे बन जाओ।