भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब आगे बढ़ते जाएंगे मज़दूर-किसान हमारे / कांतिमोहन 'सोज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब आगे बढ़ते जाएँगे मज़दूर-किसान हमारे ।
मज़दूर किसान हमारे आशा-अरमान हमारे ।।

हाथों की हथकड़ी छूटी पैरों की बेड़ी टूटी
मंज़िल सर करते जाएँगे मज़दूर-किसान हमारे ।
मज़दूर किसान हमारे आशा-अरमान हमारे ।।

दे दिया ओखली में सर अब कैसा मूसल का डर
हर आफ़त से टकराएँगे मज़दूर-किसान हमारे ।
मज़दूर किसान हमारे आशा-अरमान हमारे ।।

करके सारी तैयारी चल दिया क़ाफ़िला भारी
अब लाल धुजा फहराएँगे मज़दूर किसान हमारे ।
मज़दूर किसान हमारे आशा-अरमान हमारे ।।