भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब आराम करे दऽ / प्रभुनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत भइल काम
अब आराम करे दऽ।
बहुत भइल नाम
अब गुमनाम रहे दऽ।
रहल ना रिस्ता,
काम का नाम से।
हो रहल बा नाम,
सगरे बदनाम के।
उसकावऽ मत
अतीत के दिया में,
जरत इयाद के बाती
जइसे जरताऽ जरे दऽ।
जब तक बरऽता, बरे दऽ।
अब आराम करे दऽ।
भलाई करके,
कवन पइबऽ सम्मान ?
अब युगल रहल ना,
जे मानी केहू एहसान ;
सब कुछ बन गइल व्यवसाय,
बिक रहल बा इन्सान,
सेवा, धरम, ईमान,
पद, पदारथ आ इनाम ;
हम हताश नइखीं,
बस, हिम्मत नइखे।
बुद्धिजीवी के जीव,
यदि कुछ कहे के चाहत बा,
त कहे दऽ।
सिआही छिरिक के,
यदि मरे के चाहत बा,
त मरे दऽ।
अब आराम करे दऽ।।