भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब ऊं होग्यो छै मोट्यार /हेमन्त गुप्ता ‘पंकज’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जद
ऊं छोटो छो
पंछियां को उडबो
आकास में सुतंत्र
तद
वो भी चावै छो
उड़बो
हवा सूं बातां करबो
उन्मुक्त

पण
अब ऊ जाणग्यो छै
कल्पना का आस्मान
अर
सचाई की जमीन को
अंतर
प्रत्यक्ष
जीवण जमीन छै
अर
मनख्या की आसा आसमान
अणंत
अब
ऊं होग्यो छै मोट्यार।