भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब कुछ भी / महेश उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब कुछ भी सहा नहीं जाता

दरियाई जोश भरा द्वेष
ठान रहा नावों से बैर
टूटे विश्वासों के कगार
अपने से ज़्यादा है ग़ैर

कारण भी कहा नहीं जाता
अब कुछ भी सहा नहीं जाता