भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब के बरस री आए है घर में / ब्रजमोहन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब के बरस री आए है घर में
तीज-त्योहार ये ऐसे — जैसे आए है बीमारी कोई ...
पींग बढ़ाई री महँगी ने ऐसी
टूटी रे डाल गिरा कहीं झूला हो मारे किलकारी कोई ...

रंग-गुलाल से जी नहीं बहले
बिटिया के ब्याह ने नींद उड़ाई
सजन काम से गयो रे हटायो
ठण्ड में गुदड़ी भी गई मोरे भाई
सोवें काठ-से री देवी-देवता जागे रे दुखारी कोई ...

गोरी की आँख री हँसती न देखी
देखे न ओंठ री कैसे मुस्कावैं
सावन आवें री ऐसे — जैसे
पत्ते टूट के पेड़ से जावें
गीत हवा में ऐसे खोए याद न आवे री कोई ...

सब के आँगन में दुख खेले
सुख किसके आँगन सोया री
काट-काट के जीवन काटा
सोच-सोच के घर रोया री
ज़िन्दगी किसी की री बस में किसी के करे है सवारी कोई ...