भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब ख़ानमाँ-ख़राब की मंज़िल यहाँ नहीं / 'बाकर' मेंहदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब ख़ानमाँ-ख़राब की मंज़िल यहाँ नहीं
कहने को आशियाँ है मगर आशियाँ नहीं

इश्‍क़-ए-सितम-नवाज़ की दुनिया बदल गई
हुस्न-ए-वफ़ा-शनास भी कुछ बद-गुमाँ नहीं

मेरे सनम-कदे में कई और बुत भी हैं
इक मेरी ज़िंदगी के तुम्हीं राज़-दाँ नहीं

तुम से बिछड़ के मुझ को सहारा तो मिल गया
ये और बात है के मैं कुछ शादमाँ नहीं

अपने हसीन ख़्वाब की ताबीर ख़ुद करे
इतना तो मोतबर ये दिल-ए-ना-तवाँ नहीं

जुल्फ़-ए-दराज़ क़िस्सा-ए-ग़म में उलझ न जाए
अंदेशा-हा-ए-इश्‍क कहाँ हैं कहाँ नहीं

हर हर क़दम पे कितने सितारे बिखर गए
लेकिन रह-ए-हयात अभी कहकशां नहीं

सैलाब-ए-ज़िंदगी के सहारे बढ़े चलो
साहिल पे रहने वालों का नाम ओ निशां नहीं