भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब गिरिजाघर के घंटे कोई ईसा नहीं बजाता / राकेश पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तलबे में जमी प्रेम कविताएँ मसल दी गयीं
रौंद दिए गए अतीत के चुने हुए फूल भी

जिस प्रेम को तुमने चुना
बह गए उसी अशरीरी आँखों के हिस्से से

और अंगारों की तरह दहकने लगा था प्रेम उन्हीं तलबों के उताण्ड सेे

यही से दो हिस्से भी हुए
एक रौंदा गया लाल स्वस्तिक के साथ
दूजा बाँट दिया गया मृत संसार को
इस अशरीरी आत्मा के आह्वान के लिए

अब गिरिजाघर के घंटे कोई ईसा नहीं बजाता.