भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब गुरु सरन लियो तक तेरो / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब गुरु सरन लियो तक तेरो।
करो आनंद फंद नहि व्यापें दुरमत दुविदा दूर खदेरो।
बहो जात भौसागर मांही बांह पकर गुरु मोहु उबेरो।
जान अनाथ नाथ अपनो कर राम नाम को करो बसेरो।
ठाकुरदास मिले गुरु पूरे जूड़ीराम चरन को चेरो।