भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब चलो फिर आज गँगा में नहाएँ / सुरेन्द्र सुकुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब चलो फिर आज गँगा में नहाएँ
और अपने नाम की डुबकी लगाएँ

फिर रचेगा कोई बिन्दिया शैवाल पर
कोई भटकी याद आएगी सुनो
ताड़ वृक्षों पर जमेंगीं ओस की बून्दें
जिन्हें हम चुनें कुछ तुम चुनो
 
फिर से हरियल बाँस की नैया बनाएँ
और उसमें बैठ कर के पार जाएँ
और अपने नाम की डुबकी लगाएं

फिर से सूरज तपताएगा सुनो
धूप होगी बाबरी फिर से
फिर रखेंगी मौन ये चँचल हवाएँ
चान्दनी होगी सँगमरमरी फिर से

बहुत बड़बोली दिशाएँ डींग मारेंगी
चलो, चल कर इन्हें शीशा दिखाएँ
और अपने नाम की डुबकी लगाएँ