भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब तड़के का कसि कै नहाबु / रमई काका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब तड़के का कसि कै नहाबु
हयँ भूलि गयीं भगतिनि चाची।
लोटिया भर पानी डारयँ तौ
घर मा घूमयँ नाची-नाची॥

ई जाड़े मा हारी मानेनि,
पानी ते पंडित सिव किसोर।
तन पर थ्वारै पानी चुपरयँ
मुलु मंत्र पढ़त हयँ जोर-जोर॥

बप्पा हम आजु नहइबै ना,
लरिकउना माँगत माफी हय।
दुइ कलसा पानी का करिबै
अब तौ चुल्लू भर काफी हय॥

बहुरिया सास का भय कइकै
बसि सी-सी-सी सिसियाय दिहिस।
आड़े मा धोती बदलि लिहिस
पानी धरती पै नाय दिहिस॥