भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब तो खुश हो / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ले आए हम ढेर खिलौने
चंचल गुड़िया, नटखट बौने,
बौनों के संग-संग मृगछौने-
अब तो खुश हो गुड़िया रानी?
बोलो, खुश हो गुड़िया रानी!

लो यह हाथी, बड़े मजे से
दोनों कान हिलाता,
यह घोड़ा बटन दबाते
दुलकी चाल दिखाता।
यह बंदर जो चढ़ा पेड़ पर
खों-खों खूब डराता,
उछल-उछलकर दो पैरों पर
भालू नाच दिखाता।

ले लो, ले लो सभी खिलौने
अजी, मिठाई के ये दोने,
सभी एक से एक सलोने-
अब तो खुश हो गुड़िया रानी?
बोलो, खुश हो गुड़िया रानी!

दूर देश से आई नौका
छुक-छुक-छुक पानी पर,
लो यह इंजन धुआँ उड़ाता
दौड़ रहा पटरी पर।
प्यारा-सा शाहजादा भी है
मोर मुकुट इक पहने,
छम-छम परियों के झिलमिल हैं
गहने, सुंदर गहने।

धनुष-बाण, गुल्लक, गुब्बारे
पीं-पीं सीटी, चंदा-तारे,
ले लो तुम सारे के सारे!
ले लो परियाँ, लो ये बौने-
अब तो खुश हो गुड़िया रानी?
बोलो, खुश हो गुड़िया रानी!