भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अब तो चलने के दिन आये / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अब तो चलने के दिन आये
सब को राम-राम करते हैं दोनों हाथ उठाये

घिरता है तूफान, न जाने किसे कहाँ ले जाये !
यही बहुत है, इतने दिन हम साथ-साथ रह पाये

नदी-नाव संयोग हुआ था, अपने थे न पराये
प्रेम-पाश में बाँध किसी ने ये सब नाच नचाये

समझे जो जिसका जी चाहे, कहे जिसे जो भाये
निंदा-स्तुति से परे आज हम, यह जग क्या भरमाये !

हों गुलाब में रँग न अब वे, गये, जहाँ से आये
पर उसकी ख़ुशबू न मिटेगी, कोई लाख मिटाये

अब तो चलने के दिन आये
सब को राम-राम करते हैं दोनों हाथ उठाये