भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब तो तमाम शहर में चर्चा है आपका / साग़र निज़ामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब तो तमाम शहर में चर्चा है आपका ।
फिर किसलिए हुज़ूर ये परदा है आपका ।

हम आपके हुए तो नई बात क्या हुई,
कहते हैं लोग सारा ज़माना है आपका ।

होता है हर मुकाम पे अहसास अब यही,
जैसे हमारे साथ में साया है आपका ।

अब जाके शहकार हुई है मेरी ग़ज़ल,
बरसों ख़याल में तराशा है आपका ।