भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब तो मोहन से भी लागी लगन / कीरति कुमारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब तो मोहन से भी लागी लगन,
हम प्रिय प्यारे की छबि में मगन॥
अंग-अंग युगल शोभा सँवार,
लखि दोउन लानत कोटि मदन॥
मुसकात दोऊ जब मन्द-मन्द,
दामिनि सो दमकत दोउ रदन।
‘कीरति’ उन निवसतु युगल प्रिये,
रहे ध्यान सदा तब युगन युगन॥